उत्तर प्रदेशगोरखपुरगोरखपुर मंडलस्वास्थ्यहेल्थहेल्थ टिप्स

मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए परिवार नियोजन अपनाएं-सीएमओ

2020-12-07
po
1
Vishnushankarjwelers
vishnu
download_20200919_124217

  • मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बसंतपुर शहरी स्वास्थ्य केंद्र से किया खुशहाल परिवार दिवस का शुभारंभ
  • जिले के 43 स्वास्थ्य इकाइयों पर जुटे लाभार्थी, परामर्श के साथ मिलीं सेवाएं

गोरखपुर, 21 दिसम्बर 2020 I मातृ-शिशु स्वास्थ्य के लिए भी परिवार नियोजन के साधनों की अहम भूमिका है। शादी के दो साल बाद बच्चे की प्लानिंग और एक बच्चे के तीन साल बाद दूसरे बच्चे की प्लानिंग मां और बच्चे दोनों की सेहत के दृष्टीकोण से अच्छा निर्णय है। ऐसा करने से मां और बच्चा दोनों सुपोषित रहते हैं। कोविड काल में परिवार नियोजन की महत्ता और भी बढ़ जाती है और इसी नजरिये से प्रत्येक माह की 21 तारीख को खुशहाल परिवार दिवस का आयोजन किया जा रहा है। यह बातें मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. श्रीकांत तिवारी ने कहा। उन्होंने बसंतपुर शहरी स्वास्थ्य केंद्र पर खुशहाल परिवार दिवस के आयोजन के मौके पर लाभार्थियों, आशा कार्यकर्ताओं, एएनएम और स्वास्थ्यकर्मियों को सोमवार को संबोधित किया। उन्होंने जनसमुदाय से अपील की कि लोग आगे बढ़ कर परिवार नियोजन के स्थायी और अस्थायी साधनों का चुनाव करें। सभी साधनों की सुविधा स्वास्थ्य इकाइयों पर निःशुल्क उपलब्ध है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने बताया कि 21 तारीख को होने वाले इस आयोजन में एक जनवरी 2020 के बाद चिन्हित उच्च जोखिम गर्भावस्था (एचआरपी) व नवविवाहित दम्पत्ति के अलावा तीन या तीन से अधिक बच्चों वाले दम्पत्ति और एक या दो बच्चों वाले दम्पत्ति को परिवार नियोजन से संबंधित सेवाओं के बारे में बताया जाता है और सेवाएं भी उपलब्ध कराई जाती हैं। जिले की सभी स्वास्थ्य इकाइयों पर यह आयोजन किया गया है। इस कार्यक्रम के सहयोगात्मक पर्यवेक्षण के लिए जिला स्तर पर 16 सदस्यों की टीम गठित की गयी है। इस टीम में अपर एवं उप मुख्य चिकित्सा अधिकारियों के अलावा राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अधिकारी, यूनीसेफ और उत्तर प्रदेश टेक्निकल सपोर्ट यूनिट (यूपीटीएसयू) के प्रतिनिधि शामिल हैं। आयोजन में स्वयंसेवी संस्था उत्तर प्रदेश टेक्निकल सपोर्ट यूनिट (यूपीटीएसयू) और पापुलेशन सर्विसेज इंटरनेशनल (पीएसआई)-द चैलेंस इनीशिएटिव फॉर हेल्दी सिटीज (टीआईएचसी) तकनीकी सहयोग कर रहे हैं।

इस अवसर पर एसीएमओ (परिवार कल्याण) डॉ. नंद कुमार, प्रभारी चिकित्सा अधिकारी डॉ. पल्लवी श्रीवास्तव, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के मंडलीय कार्यक्रम प्रबंधक अरविंद पांडेय, मंडलीय कंसल्टेंट अवनीश चंद्र, प्रीति सिंह, जिला कार्यक्रम प्रबंधक पंकज आनंद, शहरी समन्वयक सुरेश सिंह चौहान, राजीव रंजन, पीएसआई-टीआईएचसी संस्था से केवल सिंह सिसौदिया, तूलिका, पवन, सुशील और प्रियंका प्रमुख तौर पर मौजूद रहे।

स्वास्थ्यकर्मियों को बांटे गये सुरक्षा किट

आयोजन के दौरान ही मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने पीएसआई-टीएआईएचसी संस्था के सहयोग से बसंतपुर के सभी स्वास्थ्यकर्मियों को सुरक्षा किट वितरित किया ताकि वह कोविड-19 से बचाव करते हुए परिवार नियोजन के प्रति जागरूकता ला सकें। किट में साबुन, एन-95 मॉस्क, सैनेटाइजर शामिल हैं। उन्होंने बताया कि यह किट शहरी क्षेत्र की सभी आशा कार्यकर्ताओं को वितरित किये जा रहे हैं।

मोहन इस्तेमाल करते हैं कंडोम, अब रेखा लगवाएंगी अंतरा

हनुमानगढ़ी की आशा कार्यकर्ता जीता द्वारा प्रेरित किये जाने पर मोहन (उम्र 22, बदला नाम) ने पांच महीने पहले कंडोम का इस्तेमाल शुरू किया है। उनका छह महीने का एक बेटा है। दम्पत्ति ने अब तय किया है कि पत्नी रेखा (उम्र 20, बदला नाम) त्रैमासिक गर्भ निरोधक इंजेक्शन अंतरा लगवाएंगी। मोहन ने इस मौके पर अपने अनुभव साझा किये और योग्य दम्पत्ति से अपील की कि बच्चे दो ही अच्छे होते हैं। पेशे से सफाईकर्मी मोहन का कहना है कि परिवार उतना ही बड़ा होना चाहिए, जितने का आसानी से भरण-पोषण हो सके।

Related Articles

Back to top button
English English Hindi Hindi
Close